समर्थक

शुक्रवार, 20 नवंबर 2009

इतिहास रचने को तैयार नौसेना की दो महिला अफसर


नौसेना की दो महिला अफसर 20 नवंबर को भारत की सशस्त्र सेनाओं के इतिहास का नया अध्याय लिखेंगी। नौसेना के इतिहास में यह पहला मौका होगा जब दोनों महिला अफसर अपना प्रशिक्षण पूरा कर मोर्चे पर तैनात होंगी।

शार्ट सर्विस कमीशन [एसएससी] के जरिए चुनी गईं सब लेफ्टिनेंट सीमा रानी शर्मा और अंबिका हुडा नौसेना की पहली महिला विमानन पर्यवेक्षक होंगी। इन दोनों को 56 साल पहले गठित नौसेना की विमानन इकाई के मेरीटाइम पेट्रोल एयरक्राफ्ट [एमपीए] दस्ते में पर्यवेक्षक कांबेट अफसर के रूप में तैनात किया जाएगा।

एसएससी में चयन के बाद उन्हें शुरू में भारतीय नौसेना अकादमी में प्रशिक्षण दिया गया। इसके बाद उन्हें यहां आईएनएस गरुण में स्थित आब्जर्वर स्कूल में प्रशिक्षण मिला। अपनी 16 महीने की ट्रेनिंग के दौरान दोनों महिला अफसरों ने डोर्नियर विमान उड़ाने के अलावा विभिन्न तरह का प्रशिक्षण लिया। नौसेना सूत्रों के अनुसार दोनों महिला अफसर विभिन्न हथियार, सेंसर्स व राडार बखूबी संचालित करती हैं और विमान उड़ाने में सक्षम हैं।

20 नवंबर को यहां एक समारोह के बाद दोनों को नौसेना के सामुद्रिक निगरानी स्क्वाड्रन में शामिल कर लिया जाएगा। यह दस्ता देश की सामुद्रिक सीमाओं की निगरानी का काम करता है।

--------------------------------------------------------------------------------------------------

अब भी जिन साहब को कोई शक हो कि लड़कियां भी लडको के कंधो से कन्धा मिला कर चल सकती है कि नहीं ........................तो साहब एक ही बात कहनी है आपसे ......................जागो सोने वालों .............

11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही बढ़िया समाचार रहा । आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरी उनको अग्रिम बधाई एवं शुभकामनाये !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छा किया मिश्रजी इस खबर को ब्लौग पर साझा करके...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुखद समाचार.
    "विमानन इकाई के मेरीटाइम पेट्रोल एयरक्राफ्ट [एमपीए] दस्ते.."
    अच्छी और नयी जानकारी मिली .

    उत्तर देंहटाएं
  5. हमें गर्व होना चाहिए ऐसी नारी शक्ति पर...
    जय हिंद..
    जय नारी...

    उत्तर देंहटाएं
  6. अच्छी खबर परोसी आपने.....

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।