समर्थक

मंगलवार, 13 अक्तूबर 2009

टीम इंडिया के उपकप्तान हैं धौनी !!


अगर आपको जानकारी नहीं हो तो हम बता देते हैं कि महेंद्र सिंह धौनी टीम इंडिया के उपकप्तान हैं। चकरा गए ना। मगर मानो या ना मानो, यह सच है। उन्हीं के राज्य झारखंड राज्य क्रिकेट एसोसिएशन [जेएससीए] का आधिकारिक अंतरजाल [वेबसाइट] तो यही बताता है।
संघ की आधिकारिक अंतरजाल के भंवरजाल में फंसे तो फिर यह किसी मायाजाल से कम नहीं प्रतीत होगा। पिछले पांच वर्षो से राज्य की सबसे धनी संस्था [परिसंपति लगभग 70 करोड़] की आधिकारिक वेबसाइट अपडेट तक नहीं हुई है। धौनी को कप्तान बने तीन वर्ष पूरे होने को हैं, पर वेबसाइट में आज भी उन्हें उपकप्तान बनने पर बधाई दी जा रही है। इसके अलावा दो बार आईसीसी प्लेयर ऑफ द ईयर का खिताब जीतने वाले माही का ना तो कहीं जिक्र है और ना ही उनकी कोई फोटो ही है।
अगर हैदराबाद क्रिकेट एसोसिएशन या फिर कर्नाटक क्रिकेट एसोसिएशन की वेबसाइट पर नजर डालें तो होम पेज में आपको उनके राज्य के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों की न सिर्फ फोटो मिलेगी, बल्कि प्रोफाइल भी आसानी से उपलब्ध हो जाएगा। क्रिकेट की बाइबिल विस्डन के ड्रीम टीम के कप्तान का सम्मान पा चुके पद्मश्री धौनी का प्रोफाइल जेएससीए की वेबसाइट में उपलब्ध नहीं है। यही नहीं जेएससीए ने धौनी को दो साल पूर्व सम्मानित सदस्य का दर्जा दिया था, पर वेबसाइट में इसका जिक्र तक नहीं किया गया है।
वेबसाइट पर गलत सूचनाओं के मकड़जाल का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दो वर्ष पहले पूर्व अंतरराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेटर रमेश सक्सेना व पूर्व अंतरराष्ट्रीय वनडे क्रिकेटर रणधीर सिंह की सदस्यता संघ के विरुद्ध गतिविधियों में संलिप्तता का आरोप लगाकर छीन ली गई थी। पर वेबसाइट के अनुसार जहां रमेश सक्सेना अभी भी जेएससीए के सदस्य हैं, वहीं रणधीर सिंह की सदस्यता छीन ली गई है। पूर्व क्रिकेटर सबा करीम जिन्होंने कभी जेएससीए का नाम रोशन किया था, का नाम भी सदस्यता सूची से गायब है।
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
अब साहब क्या कहे, बहुत ही छोटी सी बात है .... जाने भी दीजिये ...क्या करना ....अब वेबसाइट में नहीं है तो क्या हुआ सच तो सब जानते ही है !!
जिस भारत देश में आज भी ४०० रुपये की पेंशन के लिए किसी ७२ साल के आदमी को यह साबित करना होता है कि वो ही पेंशन का हक़दार है तो अगर लाखो में कमाने वाले धोनी एक बार यह साबित कर दें कि वो कैप्टेन है तो कौन सी बड़ी बात हो जायेगी ??
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
बाकी झारखंड राज्य क्रिकेट एसोसिएशन [जेएससीए] वालो से यही कहना है कि .............जागो सोने वालो .........

5 टिप्‍पणियां:

  1. अति व्यंग्यात्मक !
    http://forum.janmaanas.com
    आप सपरिवार आमंत्रित है !

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह बहुत बढ़िया लिखा है आपने! धोनी के बारे में मुझे ये बात मालूम नहीं था ! दरअसल ऑस्ट्रेलिया में आने के बाद क्रिकेट बिल्कुल ही नहीं देखती इसलिए कोई जानकारी नहीं थी!

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी के माध्यम से, आपको सहर्ष यह सूचना दी जा रही है कि आपके ब्लॉग को प्रिंट मीडिया में स्थान दिया गया है।

    अधिक जानकारी के लिए आप इस लिंक पर जा सकते हैं।

    बधाई।

    बी एस पाबला

    उत्तर देंहटाएं
  4. धन्य यह भारत देश हमारा । शुभकामनाये व प्रिंट मीडिया मे चर्चा के लिये बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।