Comments

समर्थक

रविवार, 18 अक्तूबर 2009

लालच की पराकाष्ठा

Posted by at 12:25 pm Read our previous post
यह आश्चर्यजनक है और चिंताजनक भी कि सुख-संपन्नता के सबसे बड़े पर्व को कुछ लोगों ने अपने लालच को पूरा करने के कारोबार में तब्दील कर दिया है। यह शर्मनाक है कि उत्तर प्रदेश के विभिन्न इलाकों में नकली एवं दूषित दूध, खोये, मिठाई आदि का कारोबार बेरोकटोक ढंग से होता हुआ नजर आ रहा है। यह कारोबार कितने बड़े पैमाने पर हो रहा है, इसका पता इससे चलता है कि विभिन्न शहरों में मारे गए छापों के दौरान 80 हजार लीटर नकली तेल एवं वनस्पति घी, तीन हजार किलो देसी घी, 15 सौ किलो नकली खोया और बड़ी मात्रा में नकली दूध की बरामदगी की गई। इस बरामदगी से तो ऐसा लगता है कि यदि और अधिक छापे मारे जाते तो और ज्यादा नकली खोया, घी, दूध आदि बरामद होता। ध्यान रहे कि मिलावटखोरों के खिलाफ देर से कार्रवाई शुरू की गई और इसका एक प्रमाण स्वयं मुख्यमंत्री मायावती की ओर से किया गया यह सवाल है कि खाद्य एवं औषधि नियंत्रण विभाग के अधिकारी अब तक क्या कर रहे थे?
मुख्यमंत्री की इसके लिए सराहना की जानी चाहिए कि उन्होंने मिलावटखोरों के खिलाफ सख्ती बरतने और यहां तक कि उनके खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई करने के आदेश दिए। ऐसे आदेशों के बाद यह आवश्यक हो जाता है कि मिलावटखोरों के खिलाफ जारी अभियान और अधिक गति पकड़े। वैसे भी यह लगभग तय है कि दीवाली के बाद भी मिलावटखोर अपनी हरकतों से बाज आने वाले नहीं हैं। निस्संदेह उनका दुस्साहस इसलिए बढ़ गया है, क्योंकि खाद्य एवं औषधि नियंत्रण सरीखे विभाग अपना कार्य सही तरीके से नहीं कर रहे हैं। होना तो यह चाहिए कि इस विभाग एवं पुलिस को ऐसा माहौल बना देना चाहिए कि मिलावटखोर हानिकारक खाद्य पदार्र्थो का निर्माण एवं बिक्री करने में भय खाएं। पता नहीं ऐसा होगा या नहीं, लेकिन यह सवाल तो उठना ही चाहिए कि आखिर खाद्य पदार्र्थो में जहरीली वस्तुएं मिलाने में भी संकोच क्यों नहीं किया जा रहा? क्या इससे अधिक घृणित कार्य और कोई हो सकता है? यह तो धनलिप्सा की पराकाष्ठा है। बेहतर हो कि जो लोग भी ऐसा हीन कार्य कर रहे हैं उन्हें सार्वजनिक रूप से भी धिक्कारा जाए।
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
अरे भाई, दिवाली हो, होली हो या ईद हो जब तक यह मिलावटखोर अपना माल नहीं बेचेगे तब तक इन लोगो का, खाद्य एवं औषधि नियंत्रण विभाग वालो का, पुलिस वालो का और इन के बाकी मौसेरे भाइयो का घर खर्च कैसे चलेगा ??  तो थोडा बहुत आप भी सहयोग करे और खूब ख़रीदे मिलावटी दूध, खोये, मिठाई आदि !!

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
इन जैसे लोगो को जितनी भी सजा दी जाये कम है बस जरूरत है इन लोगो पर पूरी इमानदारी से करवाई करने की ! अब जब  मुख्यमंत्री खुद इन लोगो पर करवाई की बात कह रही है तो उम्मीद भी यही की जा रही है कि करवाई होगी और जल्द होगी !! 
हम तो बस यही कहेगे कि .....जागो सोने वालो ......

7 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत घिनौना कार्य है नकली खाद्य पदार्थ बेचना।

    लक्ष्मीपूजन तो कल हो चुका, चलिए आज दीपावली मनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शॉर्ट..लेकिन शॉल्डि गुरू..व्यंग

    अरे भाई, दिवाली हो, होली हो या ईद हो जब तक यह मिलावटखोर अपना माल नहीं बेचेगे तब तक इन लोगो का, खाद्य एवं औषधि नियंत्रण विभाग वालो का, पुलिस वालो का और इन के बाकी मौसेरे भाइयो का घर खर्च कैसे चलेगा ?? तो थोडा बहुत आप भी सहयोग करे और खूब ख़रीदे मिलावटी दूध, खोये, मिठाई आदि !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. अत्यंत घटिया गैर जिम्मेदारी काम

    उत्तर देंहटाएं
  4. ऐसे लोग समाज के नाम पर कलंक हैं .......... इनको पकड़ कर कड़ी सज़ा देनी चाहिए ..........

    उत्तर देंहटाएं
  5. ऐसे लोगों के अन्दर से इनसानियत मर चुकी है

    उत्तर देंहटाएं
  6. इंसानियत, ज़मीर ये सब अब तो महज लफ़्ज़ बन के रह गये हैं। बस अपना स्वार्थ दिखता है इनको। क्या सजाये-मौत से कम के हक़दार हैं ये???

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

Labels

© जागो सोने वालों... is powered by Blogger - Template designed by Stramaxon - Best SEO Template