Comments

समर्थक

बुधवार, 8 सितंबर 2010

मैनपुरी में कम्प्यूटर शिक्षा :- खुद फर्जी और बांट रहे असली ज्ञान - प्रशासन बेखबर , छात्र हैरान !!

Posted by at 4:13 am Read our previous post
मैनपुरी में कम्प्यूटर सेंटर कमाई का एक अच्छा जरिया बन चुका है। जगह-जगह खुले कम्प्यूटर सेंटर में से कई सेंटर फर्जी रूप से संचालित हो रहे हैं। जिनकी किसी संस्था से मान्यता प्राप्त नहीं है।
कम्प्यूटर के बढ़ते प्रचलन से लगभग सभी छात्र-छात्राएं कम्प्यूटर में अपना भविष्य खोज रहे हैं। इसी का फायदा उठाते हुए जगह-जगह कम्प्यूटर सेंटर लोगों ने संचालित कर रखे है।
इन फर्जी सेंटरों पर कम्प्यूटर शिक्षा के नाम पर छात्र-छात्राओं का आर्थिक शोषण किया जा रहा है। सड़कों पर बड़े-बड़े होर्डिंग लगाकर पंपलेट, बैनर आदि पर कम्प्यूटर सेंटरों की विशेषताएं लिखी है। वहीं कई सेंटरों के होर्डिग्स में तो जॉब देने की गारंटी भी है। इन विज्ञापनों को पढ़कर छात्र-छात्राओं की भीड़ कम्प्यूटर सेंटरों पर पहुंचती है। यदि जांच कर देखा जाये तो कई कम्प्यूटर सेंटर तो ऐसे हैं जिनका किसी भी संस्था से सम्बन्ध ही नहीं है।
इन सेंटरों पर कम्प्यूटर शिक्षा के नाम पर सिर्फ छात्रों को गुमराह किया जा रहा है। क्षेत्र में इन दिनों कम्प्यूटर सेंटरों की बाढ़ आ चुकी है। इसके अलावा कुछ कम्प्यूटर सेंटर ऐसे भी है जहां सेंटर पर थोड़ा बहुत सीख चुके छात्र ही शिक्षक बन बैठे हैं। ऐसे अधूरे ज्ञान वाले शिक्षक दूसरे को क्या सिखाते होंगे यह तो खुद ही समझा जा सकता है !! लेकिन इन अवैध संचालकों पर प्रशासन की नजर ही नहीं पहुंच रही है। ऐसे में आये दिन होने वाले फर्जीवाडो से इन छात्र-छात्राओं को बचाने वाला कोई नहीं दिखता !
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
प्रशासन से यही उम्मीद की जा रही है कि वह अपनी नींद से जागे और जल्द से जल्द उचित करवाई कर इन छात्र-छात्राओं के भविष्य को बर्बाद होने से बचा लें !
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
जागो सोने वालों ...

10 टिप्‍पणियां:

  1. फर्जीवाड़ा कब कहाँ परचम लहराने लगे, कोई नहीं जानता.

    उत्तर देंहटाएं
  2. लगभग सारी जगह कम्प्युटर सेंटर के नाम से फ़र्जी वाड़ा चल रहा है। एक सोसायटी रजिस्ट्रेशन करने के बाद ये अपनी संस्था को सरकार से मान्यता प्राप्त लिखने लगते हैं। जबकि इनकी संबद्धता किसी युनिवर्सिटी से नहीं होती। सीधे ही विद्यार्थियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ हो रहा है।सार्थक लेखन के लिए बधाई
    साधुवाद

    लोहे की भैंस-नया अविष्कार
    ब्लॉग4वार्ता पर पधारें

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या किया जा सकता है इन सब बातों का...प्रशासन को चाहिए कुछ कदम उठाये...और ऐसे फर्जी डिग्री देने वाले कंप्यूटर सेंटर लगभग हर शहरों में दिख जायेंगे

    उत्तर देंहटाएं
  4. धंधे खोल रखे है लोगो ने, और कोई इस पर गौर करे तो पायेंगे की ऐसे छद्म कामों में ज्यादातर वो लोग लिप्त है जिनका कहीं कोई पोलिटिकल कनेक्सन है!

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रशासन को जल्द से जल्द सख्त कदम उठाना चाहिए! आजकल हर जगह पर ये सुनने को मिलता है की फ़र्जी डिग्री दी जाती है कंप्यूटर सेंटर में पर ये सिलसिला ख़त्म नहीं होता बल्कि प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है! बेहद अफ़सोस की बात है!

    उत्तर देंहटाएं
  6. अधूरे गुरु अधूरा ज्ञान तो देंगे ही ... बहुत सही लिखा है आपने ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. सही कहा आपने कुछ ऐसे सेंटर तो कुछ महीनो में बंद हो जाते हैं ,न तो वहाँ से किये गए कोर्स की कोई वेल्यु रहती हैं न सर्टिफिकेट की ,सही मुद्दा .

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर आलेख. यह कोई आज कल का नहीं है. लूट की खुली छूट मिली हुई है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. शिवम मिश्रा जी मैं आपकी बात से सहमत हूँ,

    असल मैं मैनपुरी मेरा घर है और यहाँ में बहुत ही जल्द कम्प्यूटर सेंटर खोलने वाला हूँ, हमने जिस संस्था से मान्यता ली है, उसके सर्टिफिकेट पूरी तरह से मान्य हैं (आप चाहें तो उनकी सत्यता की जांच करा सकते हैं) पर समस्या ये है कि जो फर्जी सेंटर चला रहे हैं, वो इतना सस्ता पढ़ा रहे हैं कि उतने ही पैसे में पढाने पर मेरी जेब से रुपये जायेंगे|

    जब खुद मैनपुरी के लोगों को शौक है जाली लोगो से पढ़ने का तो उसमे आप और मैं कुछ भी नहीं कर सकते

    मैंने एक माह में जो अध्ययन किया है तो मैं इस नतीजे पर पहुंचा हूँ कि मैनपुरी में लोगो को सिर्फ कम से कम रु. देखने हैं उनको ये नहीं देखना है कि बच्चे को क्या पढाया जा रहा है और कैसे पढाया जा रहा है|

    खैर जो भी हो में अगले माह (फरवरी -२०११) में एक सेमीनार आयोजित करने जा रहा हूँ, जिसमे अभिभाकों को कंप्यूटर शिक्षा के बारे में जानकारी दी जाएगी| उसके बाद अभिभावकों की मर्जी कि अच्छी सेवा की तरफ जाते हैं या सस्ती सेवा की तरफ|

    आपका सहयोग चाहिए होगा क्यूंकि आप मेरे ही शहर के हैं और आप इतने ब्लोगों में लिखते हैं मैं आपको अतिथि के रूप में बुलाना चाहूँगा| उम्मीद है आप आयेंगे

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

Labels

© जागो सोने वालों... is powered by Blogger - Template designed by Stramaxon - Best SEO Template