Comments

समर्थक

मंगलवार, 29 जून 2010

अब क्या करोगे, राज भाई ??

Posted by at 1:22 pm Read our previous post

महाराष्ट्र नव निर्माण सेना [मनसे] के प्रमुख राज ठाकरे उत्तर भारतीयों से मराठी सीखने को कहते हैं, जबकि उनका बेटा अमित मास मीडिया कोर्स अंग्रेजी में करने की तैयारी में है। वह भी तब, जबकि यह कोर्स मराठी में भी उपलब्ध है।

ठाकरे अपने करीब 50 पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ गुरुवार को अमित का एडमीशन बैचलर ऑफ मास मीडिया [बीएमएम] के अंग्रेजी माध्यम में कराने के लिए माटुंगा स्थित रुइया कॉलेज पहुंचे थे।

सूत्रों के मुताबिक, 'मराठी को उसका हक दिलाने की बात करने वाले ठाकरे अपने बेटे के साथ सीधे प्रिंसिपल के केबिन में पहुंचे। वह अपने बेटे का एडमीशिन अंग्रेजी माध्यम में चाहते हैं।

उन्होंने बीएमएम में पढ़ाए जाने वाले विषयों के बारे में भी पूछा।' ठाकरे के कॉलेज आने की पुष्टि प्रिंसिपल सुहास पड़नेकर ने भी की। उन्होंने इस सत्र से बीएमएम कोर्स मराठी में शुरू किए जाने की भी बात कही।

ठाकरे की पत्नी शर्मिला का कहना है, 'वे कई कॉलेजों में एडमीशन के लिए जा रहे हैं। लेकिन अमित बीएमएम किस भाषा में पढ़ेगा इस बारे में अभी कोई फैसला नहीं हुआ है।' इस बीच मनसे के प्रवक्ता ने कहा ठाकरे रुइया कॉलेज एक पिता की हैसियत से गए थे, राजनेता की तरह नहीं |

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

हम तो कहीं के नहीं रहे ..................... अब क्या कहेगे "मराठी मानुष" से ? कैसे रोकेगे उत्तर भारतीय लोगो को महाराष्ट्र में आने से और हिंदी में बोलने से ?

"घर को आग लग गयी घर के चिराग से..............."

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

देख लिया राज भाई ............हो गए ना आप भी मजबूर ?? भाषा कोई भी बुरी या भली नहीं होती ! धर्मं कोई भी बुरा या भला नहीं होता ! यह तो हमारी सोच का खेल है जो कभी कभी भली चीजो को भी बुरा बना देती है और बुरी को भली ! सो अपनी सोच को बदलो और जागो ..............!!

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

जागो सोने वालों ...

27 टिप्‍पणियां:

  1. ऐसे लोगों की कथनी और करनी में बड़ा फर्क होता है...

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी पोस्ट. भाषण देना, दूसरों पर नियम आरोपित करना अलग बात है और उन्हीं नियमों पर खुद चलना बिल्कुल अलग.

    उत्तर देंहटाएं
  3. हा हा हा यानि हाथी के दांत ...खाने के और दिखाने के और ...जाने फ़िर भी ये जनता क्यों नहीं समझती

    उत्तर देंहटाएं
  4. हमारे समाज में अंग्रेजी का बोलबाला आजादी के तुरंत बाद की अपेक्षा बहुत बढ़ चुका है, इस तथ्य से इन्कार नहीं किया जा सकता. हिन्दी के लिए समर्पित लोगों के बच्चे भी अंग्रेजी माध्यम से पढाई करते हैं.राज ठाकरे तो केवल अपने राजनैतिक स्वार्थों हेतु भाषा और क्षेत्र की बात करते हैं और इस प्रकार देश के नागरिकों में वैमनस्य फैला रहे हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बढ़िया है!

    थोडा सा इंतज़ार कीजिये, घूँघट बस उठने ही वाला है - हमारीवाणी.कॉम



    आपकी उत्सुकता के लिए बताते चलते हैं कि हमारीवाणी.कॉम जल्द ही अपने डोमेन नेम अर्थात http://hamarivani.com के सर्वर पर अपलोड हो जाएगा। आपको यह जानकार हर्ष होगा कि यह बहुत ही आसान और उपयोगकर्ताओं के अनुकूल बनाया जा रहा है। इसमें लेखकों को बार-बार फीड नहीं देनी पड़ेगी, एक बार किसी भी ब्लॉग के हमारीवाणी.कॉम के सर्वर से जुड़ने के बाद यह अपने आप ही लेख प्रकाशित करेगा। आप सभी की भावनाओं का ध्यान रखते हुए इसका स्वरुप आपका जाना पहचाना और पसंद किया हुआ ही बनाया जा रहा है। लेकिन धीरे-धीरे आपके सुझावों को मानते हुए इसके डिजाईन तथा टूल्स में आपकी पसंद के अनुरूप बदलाव किए जाएँगे।....

    अधिक पढने के लिए चटका लगाएँ:

    http://hamarivani.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. बढ़िया है!

    थोडा सा इंतज़ार कीजिये, घूँघट बस उठने ही वाला है - हमारीवाणी.कॉम



    आपकी उत्सुकता के लिए बताते चलते हैं कि हमारीवाणी.कॉम जल्द ही अपने डोमेन नेम अर्थात http://hamarivani.com के सर्वर पर अपलोड हो जाएगा। आपको यह जानकार हर्ष होगा कि यह बहुत ही आसान और उपयोगकर्ताओं के अनुकूल बनाया जा रहा है। इसमें लेखकों को बार-बार फीड नहीं देनी पड़ेगी, एक बार किसी भी ब्लॉग के हमारीवाणी.कॉम के सर्वर से जुड़ने के बाद यह अपने आप ही लेख प्रकाशित करेगा। आप सभी की भावनाओं का ध्यान रखते हुए इसका स्वरुप आपका जाना पहचाना और पसंद किया हुआ ही बनाया जा रहा है। लेकिन धीरे-धीरे आपके सुझावों को मानते हुए इसके डिजाईन तथा टूल्स में आपकी पसंद के अनुरूप बदलाव किए जाएँगे।....

    अधिक पढने के लिए चटका लगाएँ:

    http://hamarivani.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. जगाया उन्हे जाता है, जो सोए हुए हों...ये लोग तो जाग ही रहे हैं..सो तो पब्लिक रही है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. फिर भी पब्लिक मराठी मानुष के नाम पर पागल होकर गरीबों को मारेगी। साधुओं को पैर से ठोकर मारेगी। वोट इन्हीं महाश्य को देगी। ये तो पब्लिक है जो सब जानता है, पर करती कुछ नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. राज की करनी और कथनी में अंतर है फिर ऊपर से नेता हैं ...आजकल के नेता सत्य कहाँ बोलते हैं .....

    उत्तर देंहटाएं
  10. कुत्ते के दांत, खाने के और, गुर्राने के और!

    उत्तर देंहटाएं
  11. खाने के और दिखाने के और ...जाने फ़िर भी ये जनता क्यों नहीं समझती

    उत्तर देंहटाएं
  12. राज के पास अब कोई जबाब नहीं होगा ....

    उत्तर देंहटाएं
  13. samjhte sab hai hai bas chup hai..shivam ji rochak likha hai

    उत्तर देंहटाएं
  14. माननीय राज ठाकरे जी को केवल कुछ लाख vote चाहिये। उन्हे देश को क्या फर्क पङेगा इसकी परवाह नही है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. पब्लिक को जागना चाहिए ना और फिर सही गलत का फैसला कर के ही भेड चाल चलनी चाहिए.

    अच्छा लेख.

    उत्तर देंहटाएं
  16. यहाँ सब वोट बैंक के लिए सारा खेल है
    जनता पिसती है, वोट का निकलता तेल है

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत अच्छा भाई। क्या कहने। भारत में ऐसा ही होता है। आप राज की बात कर रहे हैं। मुलायम सिंह जी भी ऐसे ही हैं। वह भी हिन्दी प्रेमी हैं पर लड़के को पढऩे के लिए विदेश भेजते हैं। इसको लेकर भी कुछ खास किया जाना चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  18. नेता और इनकी बातें कौन नही जानता । जनता के लिये एक घर के लिये दूसरी ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. राज ठाकरे जी.. शर्म की कोई उम्र नहीं होती.. अगर आती है तो ले आओ.. क्यूँ बरगलाते हो बेचारे मराठी मानुष को..? अब तो कुछ शर्म करो..!!

    जोगेंद्र सिंह
    .

    उत्तर देंहटाएं
  20. ghar me ....sher hota hai ,maharashtra ki chacha bhatije registry apne nam karayee hui hai ..vhan rahane wale sab......!!!!!!!!!!!hain

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

Labels

© जागो सोने वालों... is powered by Blogger - Template designed by Stramaxon - Best SEO Template