समर्थक

बुधवार, 18 अगस्त 2010

नेता जी सुभाष चन्द्र बोस :- साजिशो के दरमियाँ - कल भी और आज भी !!

आज १८ अगस्त है .........आपका सवाल होगा तो क्या ख़ास है इस दिन में ........तो साहब आज के ही दिन एक बहुत एक बहुत बड़ी पहेली शुरू हुयी थी .........जिस का आजतक कोई भी जवाब नहीं मिल पाया है !
बताया जाता रहा है कि आज के ही दिन यानि के १८ अगस्त १९४५ के दिन नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की मृत्यु एक विमान दुर्घटना में हुई थी। 

वैसे यह सच है या नहीं इस पर आज तक बहस चल रही है ! 

जो भी हो इस से नेता जी के भारत देश की आज़ादी के लिए किये गए योगदान पर कोई फर्क नहीं पड़ता ! 

मैं उन लोगो में से हूँ जो यह मानते है कि आज़ादी केवल किसी ' एक ' के कारण नहीं मिली और ना ही अहिंसा से मिली है बल्कि पूरे भारत की जनता की कोशिशो और खुनी बलिदानों का नतीजा है !
नेता जी की इस तथाकथित 'मौत' के पीछे क्या कारण थे इस से जुडी हुयी कुछ बातों पर लिखी एक पोस्ट का लिंक नीचे दे रहा हूँ .............हो सके तो जरूर पढियेगा और जानिये कि हम लोगो को क्या क्या नहीं बताया गया उनके बारे में .......एक सोची समझी साजिश के तहत !!! 

एक रिपोस्ट :- नेताजी की मृत्यु १८ अगस्त १९४५ के दिन किसी विमान दुर्घटना में नहीं हुई थी।

 

यहाँ आप सब के लिए एक और पोस्ट का भी लिंक दे रहा हूँ जिस में एक ऐसा चित्र है जो आप सब को चौंका देगा !!

 

नाज़-ए-हिन्द सुभाष की विशेष कड़ी: नेहरूजी के पार्थिव शरीर के पास खड़ा यह भिक्षु कौन है?

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------


अब फैसला ..............आप सब पर छोड़ता हूँ .......

जागो सोने वालो ...

7 टिप्‍पणियां:

  1. रक्षा बंधन पर हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  2. .
    काफी कुछ छुपाया गया है । लेकिन क्यूँ ?...नहीं मालूम।

    कुछ वर्ष पूर्व सुना था की नेताजी अभी जीवित हैं । सच क्या है ?

    सुन्दर पोस्ट !
    .

    उत्तर देंहटाएं
  3. हम लोगो को क्या क्या नहीं बताया गया उनके बारे में .......एक सोची समझी साजिश के तहत !!!
    ...सही कहा आपने. शानदार पोस्ट..बधाई.
    ________________
    शब्द-सृजन की ओर पर ''तुम्हारी ख़ामोशी"

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।