Comments

समर्थक

गुरुवार, 2 मई 2013

क्या पाया उन बेटियों ने ...

Posted by at 1:46 pm Read our previous post


कोई पूछे जा कर उन बेटियों से ...
आज क्या है उनके दिल मे ...
जब से होश संभाला ...
एक ही आस रही कि पापा घर आ जाएँ ... 

 

जिस तस्वीर को पापा कहते है उस तस्वीर मे प्राण आ जाये ...
आज आएंगे पापा ...
निष्प्राण हो कर ...
एक कैद से आज़ाद हो कर ...

 

एक ताबूत मे फिर कैद हो कर ...
फिर एक तस्वीर बनने के लिए ...
क्या पाया उन बेटियों ने ...

  

पापा को खो कर ...
पा कर ...
फिर खो कर !!?? 

( सरबजीत सिंह और उनके परिवार को समर्पित मेरी यह स्वरचित रचना ) 


===========================

जागों सोने वालों ...

22 टिप्‍पणियां:

  1. :( बेहद दुखद है. कैसा होता है ऐसी आस के साथ जीना जिसमें कोई आस ही न हो. यह एहसास सिर्फ वाही कर सकता है जिसने इसे झेला हो. भगवान् सरबजीत के परिवार को शक्ति दे.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अत्यंत दुखद और मार्मिक रचना | दिल दहल जाता है ऐसा सोचकर भी तो उनका क्या हाल होता होगा जो इस सच को जी रहे हैं | भगवान् उन्हें इस दुःख का सामना करने की हिम्मत दे और सरबजीत की आत्मा को शांति प्रदान करें |

    उत्तर देंहटाएं
  3. पापा को खो कर ...
    पा कर ...
    फिर खो कर !!?? ......दुख के साथ अपनी विवशता पर रोना ही आता है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अत्यंत दुखद और मार्मिक रचना,भगवान् सरबजीत के परिवार को शक्ति दे.

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्‍या कर सकती हैं ..
    झेलने की विवशता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. अपनों को खोना बहुत गम देता है, और खासकर जो पहले से ही दूर हों जिसके आने की आस हो.. वह आस भी खत्म हो जाये तो और गम होता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अत्यंत दुखद ! भगवान् सरबजीत की आत्मा को शांति दें
    डैश बोर्ड पर पाता हूँ आपकी रचना, अनुशरण कर ब्लॉग को
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    lateast post मैं कौन हूँ ?
    latest post परम्परा

    उत्तर देंहटाएं
  8. मार्मिक प्रस्तुति .........
    अत्यंत दुखद .........अपनी मिटटी मिली अंतिम समय और शब्द ही नहीं कहने को ...........

    उत्तर देंहटाएं
  9. Rula diya aapne...sath hi sath rosh bhi hai...par ab in bachchiyon ka kya hoga..ummed hai ki inke rishtedaar inka khayal rakhenge..bharat me to waise bhi betiyaan surakshit nahin hain

    उत्तर देंहटाएं
  10. शिवम भाई! बहुत मुश्किल है ऐसी कविताओं पर कमेन्ट करना.. मेरा गला रूंध जाता है और आवाज़ नहीं निकलती.. बचपन का एक गीत याद आ गया..
    नमन है उस पिता को और परमात्मा उन बेटियों को शहीद की बेटी कहलाने का हौसला दे!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. पापा को खो कर ...
    पा कर ...
    फिर खो कर !!?? ..मार्मिक

    उत्तर देंहटाएं
  12. जहाँ न्याय की गुहार है,उधर से सब बहरे हैं ... पर हिंसक सोच की हदों को पार करते हुए किसी की नहीं सोचते .

    उत्तर देंहटाएं
  13. आज की ब्लॉग बुलेटिन तुम मानो न मानो ... सरबजीत शहीद हुआ है - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच मे जब सरबजीत की बच्चियों को टीवी पे देखते हैं तो बहुत दुख होता है। भगवान ऐसे दिन किसी बेटो को न दिखाये । बहुत मार्मिक

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही भावनात्मक मार्मिक प्रस्तुति ।............मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत मुश्किल है कमेन्ट करना..बहुत मार्मिक बहुत सटीक

    उत्तर देंहटाएं
  17. बेटियों में फर्क है,तभी किसी के लिए आतंकवादी छोड़े जाते हैं,जबकि बाक़ियों की मौत आतंकवादी कह कर होती है।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

Labels

© जागो सोने वालों... is powered by Blogger - Template designed by Stramaxon - Best SEO Template