Comments

समर्थक

सोमवार, 14 जनवरी 2013

क्या करूँ संवेदना लेकर तुम्हारी...क्या करूँ?

Posted by at 8:20 pm Read our previous post

क्या करूँ संवेदना लेकर तुम्हारी?
अमर शहीद
क्या करूँ?

मैं दुखी जब-जब हुआ
संवेदना तुमने दिखाई,

आप और हम 
मैं कृतज्ञ हुआ हमेशा,
रीति दोनो ने निभाई,
किन्तु इस आभार का अब
हो उठा है बोझ भारी;
क्या करूँ संवेदना लेकर तुम्हारी?
क्या करूँ?

एक भी उच्छ्वास मेरा
हो सका किस दिन तुम्हारा?
उस नयन से बह सकी कब
इस नयन की अश्रु-धारा?
सत्य को मूंदे रहेगी
शब्द की कब तक पिटारी?
क्या करूँ संवेदना लेकर तुम्हारी?
क्या करूँ?

कौन है जो दूसरों को
दु:ख अपना दे सकेगा?
कौन है जो दूसरे से
दु:ख उसका ले सकेगा?
क्यों हमारे बीच धोखे
का रहे व्यापार जारी?
क्या करूँ संवेदना लेकर तुम्हारी?
क्या करूँ?

क्यों न हम लें मान, हम हैं
चल रहे ऐसी डगर पर,
हर पथिक जिस पर अकेला,
दुख नहीं बंटते परस्पर,
दूसरों की वेदना में
वेदना जो है दिखाता,
वेदना से मुक्ति का निज
हर्ष केवल वह छिपाता;
तुम दुखी हो तो सुखी मैं
विश्व का अभिशाप भारी!
क्या करूँ संवेदना लेकर तुम्हारी?
क्या करूँ? 


- हरिवंशराय बच्चन
 ========================================
पिछले कुछ दिनों से देख रहा हूँ , समझने की कोशिश कर रहा हूँ पर और उलझता जा रहा हूँ ! यह कैसी होड सी लगी हुई है देश के शहीदों पर अहसान दिखाने की ... क्या मीडिया , क्या नेता , क्या आप और हम ... कोई भी तो कोई कसर नहीं छोड़ रहा है ... पर किस लिए ... क्या साबित करने की ज़िद्द है ... छोड़ो यार जाने दो ... सब को सच मालूम है ... किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता ... खास कर तब तक जब तक खुद के साथ कुछ न हो ... इस लिए धोखा मत दो ... कम से कम शहीदों को ...
 ========================================
जागो सोने वालों ... 

12 टिप्‍पणियां:

  1. आज के हालातों पर सटीक बैठती है कविता :(

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच है ... मोमबत्तियों की संस्कृति से बाहर आना होगा... कुछ करने का जज़्बा है तो ज़मीन पर उतरो ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच में आज का समाज संवेदनाविहीन हो चुका है

    उत्तर देंहटाएं
  4. संवेदना शुन्य हो रहे समाज को दिखा रही है कविता। शिवम् भाई सही समय पर सही कविता पढवाने का आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही मर्मस्पर्शी कबिता .....

    उत्तर देंहटाएं
  6. मौजूदा दौर में प्रासंगिक....

    उत्तर देंहटाएं
  7. मर्मस्पर्शी रचना!

    वाकई लगी होती है होड़

    शब्दों के खेल में अव्वल आने की

    कितने हैं ऐसे लोग, जिनमे उमड़ते हैं भाव,

    होती है ललक, सरहद प्रहरी बन जाने की

    (स्वतः को भी शामिल करता हूँ इसमें)

    मिश्रा जी को साभिवादन बहुत बहुत

    बधाई .....आपने सुन्दर रचना पढ़ाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. चल मरदाने,सीना ताने - ब्लॉग बुलेटिन आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सामयिक रचना साझा की आपने शिवम भाई । सच में आज देश और समाज इतना संवेदनहीन हो गया है किसी को कोई फ़र्क नहीं पडता

    उत्तर देंहटाएं
  10. बच्चन जी की रचनायें इसीलिये विशिष्ट हैं कि वे हर काल हर परिस्थिति एवं हर परिवेश में प्रासंगिक एवं सामयिक हो जाती हैं ! इतने सार्थक एवं सटीक चयन के लिए आपका आभार शिवम् जी !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

Labels

© जागो सोने वालों... is powered by Blogger - Template designed by Stramaxon - Best SEO Template