समर्थक

शनिवार, 23 नवंबर 2013

समाज मे कीचड़ या कीचड़ मे समाज

Posted by at 12:03 pm
आज कल समाज मे ऐसे ही लोगो की भीड़ दिखती है ... जिन की असली जगह हमारा समाज नहीं ... वही कीचड़ है जहां से वो सब आए है | और सब से बड़ी दिक्कत यह है कि ऐसे लोग किसी वर्ग विशेष मे नहीं मिलते बल्कि समाज के हर वर्ग मे पाये जा रहे है ... हाल की घटनाएँ इस का प्रमाण है |

 
अगर जल्द ही इन का कोई ठोस इलाज़ न निकाला गया तो इस समाज को बर्बाद होने से कोई नहीं बचा सकता |
==========================
जागो सोने वालों ...

Labels

© जागो सोने वालों... is powered by Blogger - Template designed by Stramaxon - Best SEO Template