Comments

समर्थक

शुक्रवार, 21 जनवरी 2011

मिठाई के नाम पर जहर का कारोबार

Posted by at 11:31 pm Read our previous post
फर्रुखाबाद से मैनपुरी जिले में मिलावटी मिठाई की सप्लाई जमकर की जा रही है। नगर के अलावा कस्बाई व देहाती इलाकों में मिलावटी व रेडीमेड मिठाई की भरपूर खपत है।

उल्लेखनीय है कि जनपद के बड़े और छोटे मिष्ठान भण्डारों, चाय व परचून की दुकानों पर लाल, पीले व सफेद रंग की मिठाइयां बड़ी प्लेटों में सजी दिख जाती है। यह मिठाई रूपी जहर पड़ोसी जनपद फर्रुखाबाद से मारुति वैन में भरकर सप्लाई किया जाता है। दुकानदार अधिक मुनाफा कमाने के उद्देश्य से मिठाई के नाम पर जहर बेचने से परहेज नहीं कर रहे हैं।

वैसे भी आसमान चूमती महंगाई के दौर में लोग सस्ती चीजें तलाशते हैं। 35 से 37 रुपये किलो चीनी बिक रही है और खोया से बनी मिठाई मात्र 120 रुपये किलो आसानी से मिल जाती है। जानकारी के अनुसार फर्रुखाबाद से मारुति वैन में भरकर आने वाली खोए की मिठाइयां दुकानदार को 60 रुपये किलो थोक में मिल जाती हैं। इन मिठाइयों को दुकानदार 120 रुपये किलो तक बेचकर दूने दाम कर लेते हैं। उन्हें इस बात से कोई लेना देना नहीं है कि मिठाई खाने वाला मरेगा या जिंदा रहेगा। मिलावटी खाद्य पदार्थोँ की बाहरी जनपदों से सप्लाई को जिले के खाद्य निरीक्षक भी नहीं देख रहे हैं। 

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
आखिर किस बात का इंतज़ार है ... क्या प्रशासन इस बात का इंतज़ार कर रहा है कि कोई बड़ी घटना हो जाए उसके बाद ही कारवाही की जायेगी ??

क्यों ना समय रहते इन मिलावटखोरो को पकड़ काफी सारी जाने बचा ली जाएँ !!
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
जागो सोने वालों ...

6 टिप्‍पणियां:

  1. सरे आम जहर देते इन लोगों के लिए कोई डर नहीं है शिवम् भाई ! बड़ी निराशा जनक स्थिति है

    उत्तर देंहटाएं
  2. खाद्य निरीक्षकों तक भी तो इस गड़बड़ झाले का हिस्सा पहुँचता ही होगा. पुलिस क्या नहीं जानती होगी इन सबके बारे में. सब मिली भगत है. अफसोस ...... मगर अपना भला खुद ही सोंचना पड़ेगा ऐसे में. बहुत ही सुंदर पोस्ट. लोगों को सजग करती हुई. .........
    बुलंद हौसले का दूसरा नाम : आभा खेत्रपाल

    उत्तर देंहटाएं
  3. मावे की मिठाई खाना ही बंद कर दिया है हमने।
    और घर की बनी हुई खाते हैं। इस पर बहुत पहले एक पोस्ट भी लिखी थी हमने,आंखों देखी। नकली मावे का कारोबार बहुत बड़ा है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. यहाँ तो दूध भी केमिकल से ही बना लेते हैं, तो मिठाईयों में जहर मिलना अनिवार्य ही होगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. शिवम जी
    नमस्कार !
    हमारा बीकानेर स्वादिष्ट और शुद्ध मिठाई और नमकीन भुजिया के लिए विश्वस्त जगह है । आदेश करें तो भिजवादूं … :)

    लालच में आ'कर औरों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ करने वालों को दंडित किया जाना चाहिए ।

    ~*~हार्दिक शुभकामनाएं और मंगलकामनाएं !~*~
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

Labels

© जागो सोने वालों... is powered by Blogger - Template designed by Stramaxon - Best SEO Template